It's time to upgrade your browser

You're using an outdated version of Internet Explorer.

DOWNLOAD NOW

समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर: सोनापुर, असम में नया पीओएल टॉप

2018-02-03

भारत सरकार की ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी के अनुपालन में, असम में हुए वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन में, बीपीसीएल और असम सरकार के बीच गुवाहाटी में 3 फरवरी, 2018 के दिन समझौता ज्ञापन दर्ज किया गया। इस एमओयू के अनुसार, बीपीसीएल सोनापुर, ज़िला कामरूप (मेट्रो), नुमालीगढ़ - सिलीगुड़ी पाइपलाइन पर गुवाहाटी से 35 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व 70 एकड़ जमीन पर रु.350 करोड़ का निवेश करते हुए एक पीओएल टर्मिनल स्थापित करेगा। बीपीसीएल की ओर से, राज्य प्रमुख खुदरा, उत्तर पूर्व, श्री पीयूष गुप्ता ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

दिसंबर 2021 तक चालू करने के लिए प्रस्तावित पीओएल टर्मिनल, उत्तर-पूर्व क्षेत्र में बीपीसीएल के स्वामित्व और टीडब्ल्यू लोडिंग की सुविधाओं वाला पहला संपूर्ण पीओएल टीओपी होगा। यह एक ऐतिहासिक विकास है, क्योंकि पीओएल डिपो उत्तर पूर्व में असम और मेघालय के 45 उच्च मात्रा वाले जिलों के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा, त्रिपुरा, मिजोरम और यहाँ तक ​​कि मणिपुर जैसे उच्च संभावित राज्यों के लिए भी जिरीबाम मार्ग के माध्यम से पीओएल उत्पादों के लिए प्रवेश के नए द्वार खोल देगा।

प्रस्तावित पीओएल टर्मिनल बीपीसीएल कार्बन फुटप्रिंट में सुधार के लिए एक हरित पहल है, क्योंकि उत्पाद पाइपलाइन द्वारा लगभग 200 किलोमीटर की दूरी तय करेगा, जिससे सड़क द्वारा प्रत्येक टीएल के आरटीकेएम को 400 किलोमीटर तक कम किया जा सकेगा, फलस्वरूप आरओ नेटवर्क को आपूर्ति तेजी से सुनिश्चित हो सकेगी। इससे नुमालीगढ़ मार्केटिंग टर्मिनल का महत्व और बढ़ जाएगा, क्योंकि अपनी रिफाइनरी विस्तार योजनाओं के साथ बढ़ती प्रवाह क्षमता को संभालने और एकल आपूर्ति स्रोत के समय नियोजित और अनियोजित शटडाउन की स्थिति में किसी भी तरह की अतिरिक्तता को बढ़ाएगा। यह हमारे सम्मानित उपभोक्ताओं को उत्पादों की बेरोकटोक आपूर्ति सुनिश्चित करेगा।

असम सरकार राज्य सरकार की मौजूदा नीतियों / नियमों और विनियमों के अनुसार संबंधित विभागों / एजेंसियों / राज्यों के अधिकारियों से आवश्यक अनुमति / पंजीकरण / अनुमोदन / मंजूरी इत्यादि प्राप्त करने के लिए बीपीसीएल को सुविधा प्रदान करेगी।