Overview

समीक्षा

बीपीसीएल में हम मानते हैं कि समाज के लिए कुछ करना सभी की ज़िम्मेदारी है। इसी कारण, हम मानते हैं कि हमारी कुछ बेहतरीन से बेहतरीन उपलब्धियां वे नहीं हैं, जो तुलनपत्र में पायी जाती हैं, किंतु वे हैं जो समूचे भारत में छोटे छोटे नगरों एवं गांवों में फैली हुई हैं। इस व्यापक उत्तरदायित्व को साझा करने की शुरूआत 1984 से हुई थी, जब “समाज/समुदाय को कुछ वापस करने” की हमारी सोच को अपनाने के साथ, हमने अपने कर्मचारियों या उनके परिवारों सहित सभी लोगों को उनकी ज़िंदगी को बेहतर बनाने में मदद करने का लक्ष्य रखा। इसमें हमने परिवार की परिभाषा को भी बदला और न केवल उन लोगों के परिवारों पर ध्यान दिया जो हमारे साथ हमारे कार्यालय में बैठते हैं। बल्कि हमने ग्रामीण भारत के लोगों को भी अपने लक्ष्य में शामिल किया।

आज, हम उन्हें अर्थात ग्राम विस्तारों में बसे हमारे गांव वासियों को, हमारा बृहद् परिवार मानते हैं, ।